caNDikAparamEshvarI japa vidhAnam

caNdikA japa vidhAnam

चण्डिकापरमेश्वरी जप विधानम्

अस्य श्री नवाक्षरी महामन्त्रस्य।
मार्कण्डेय ऋषिः। जगती छन्दः। श्री चण्डिकापरमेश्वरी देवता।

ह्रां बीजं। ह्रीं शक्तिः। ह्रूं कीलकं।

श्री चण्डिकापरमेश्वरी महामन्त्र प्रसाद सिद्ध्यर्त्थे जपे विनियोगः।

कर न्यासः -

ह्रां अङ्गुष्ठाभ्यां नमः।
ह्रीं तर्जनीभ्यां नमः।
ह्रूं मध्यमाभ्यां नमः।
ह्रैं अनामिकाभ्यां नमः।
ह्रौं कनिष्ठिकाभ्यां नमः।
ह्रः करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः।

अङ्ग न्यासः -

ह्रां हृदयाय नमः।
ह्रीं शिरसे स्वाहा।
ह्रूं शिखायै वषट्।
ह्रैं कवचाय हुं।
ह्रौं नेत्रत्रयाय वौषट्।
ह्रः अस्त्राय फट्।

ओम् भूर्भुवस्वरों इति दिग्बन्धः।

ध्यानम् -

मातर्मे मधुकैटपघ्नि महिष प्राणापहारोद्यमे
हेला निर्मित धूम्रलोचन वधे हे चण्डमुण्डार्दिनि।
निश्शेषीकृत रक्तबीजतनुजे नित्ये निशुंभापहे
शुभध्वंसिनि संहराशुदुरितं दुर्गे नमस्तेऽम्बिके॥

पञ्चपूजा -

लं पृथिव्यात्मिकायै गन्धं कल्पयामि।
हं आकाशात्मिकायै पुष्पाणि कल्पयामि।
यं वाय्वात्मिकायै धूपं कल्पयामि।
रं अग्न्यात्मिकायै दीपं कल्पयामि।
वं अमृतात्मिकायै अमृतं महानैवेद्यं कल्पयामि।
सं सर्वात्मिकायै ताम्बूलादि समस्तोपचारान् कल्पयामि।

मूलम् -

ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे ॥

अङ्ग न्यासः -

ह्रां हृदयाय नमः।
ह्रीं शिरसे स्वाहा।
ह्रूं शिखायै वषट्।
ह्रैं कवचाय हुं।
ह्रौं नेत्रत्रयाय वौषट्।
ह्रः अस्त्राय फट्।

ओम् भूर्भुवस्वरों इति दिग्विमोघः।

ध्यानम् -

मातर्मे मधुकैटपघ्नि महिष प्राणापहारोद्यमे
हेला निर्मित धूम्रलोचन वधे हे चण्डमुण्डार्दिनि।
निश्शेषीकृत रक्तबीजतनुजे नित्ये निशुभापहे
शुभध्वंसिनि संहराशुदुरितं दुर्गे नमस्तेऽम्बिके॥

पञ्चपूजा -

लं पृथिव्यात्मिकायै गन्धं कल्पयामि।
हं आकाशात्मिकायै पुष्पाणि कल्पयामि।
यं वाय्वात्मिकायै धूपं कल्पयामि।
रं अग्न्यात्मिकायै दीपं कल्पयामि।
वं अमृतात्मिकायै अमृतं महानैवेद्यं कल्पयामि।
सं सर्वात्मिकायै ताम्बूलादि समस्तोपचारान् कल्पयामि।

caṇḍikāparameśvarī japa vidhānam

asya śrī navākṣarī mahāmantrasya |
mārkaṇḍeya ṛṣiḥ | jagatī chandaḥ | śrī caṇḍikāparameśvarī devatā |

hrāṁ bījaṁ | hrīṁ śaktiḥ | hrūṁ kīlakaṁ |

śrī caṇḍikāparameśvarī mahāmantra prasāda siddhyartthe jape viniyogaḥ |

kara nyāsaḥ -

hrāṁ aṅguṣṭhābhyāṁ namaḥ |
hrīṁ tarjanībhyāṁ namaḥ |
hrūṁ madhyamābhyāṁ namaḥ |
hraiṁ anāmikābhyāṁ namaḥ |
hrauṁ kaniṣṭhikābhyāṁ namaḥ |
hraḥ karatalakarapṛṣṭhābhyāṁ namaḥ |

aṅga nyāsaḥ -

hrāṁ hṛdayāya namaḥ |
hrīṁ śirase svāhā |
hrūṁ śikhāyai vaṣaṭ |
hraiṁ kavacāya huṁ |
hrauṁ netratrayāya vauṣaṭ |
hraḥ astrāya phaṭ |

oum bhūrbhuvasvaroṁ iti digbandhaḥ |

dhyānam -

mātarme madhukaiṭapaghni mahiṣa prāṇāpahārodyame
helā nirmita dhūmralocana vadhe he caṇḍamuṇḍārdini |
niśśeṣīkṛta raktabījatanuje nitye niśuṁbhāpahe
śubhadhvaṁsini saṁharāśuduritaṁ durge namaste'mbike ||

pañcapūjā -

laṁ pṛthivyātmikāyai gandhaṁ kalpayāmi |
haṁ ākāśātmikāyai puṣpāṇi kalpayāmi |
yaṁ vāyvātmikāyai dhūpaṁ kalpayāmi |
raṁ agnyātmikāyai dīpaṁ kalpayāmi |
vaṁ amṛtātmikāyai amṛtaṁ mahānaivedyaṁ kalpayāmi |
saṁ sarvātmikāyai tāmbūlādi samastopacārān kalpayāmi |

mūlam -

aiṁ hrīṁ klīṁ cāmuṇḍāyai vicce

aṅga nyāsaḥ -

hrāṁ hṛdayāya namaḥ |
hrīṁ śirase svāhā |
hrūṁ śikhāyai vaṣaṭ |
hraiṁ kavacāya huṁ |
hrauṁ netratrayāya vauṣaṭ |
hraḥ astrāya phaṭ |

oum bhūrbhuvasvaroṁ iti digvimoghaḥ |

dhyānam -

mātarme madhukaiṭapaghni mahiṣa prāṇāpahārodyame
helā nirmita dhūmralocana vadhe he caṇḍamuṇḍārdini |
niśśeṣīkṛta raktabījatanuje nitye niśubhāpahe
śubhadhvaṁsini saṁharāśuduritaṁ durge namaste'mbike ||

pañcapūjā -

laṁ pṛthivyātmikāyai gandhaṁ kalpayāmi |
haṁ ākāśātmikāyai puṣpāṇi kalpayāmi |
yaṁ vāyvātmikāyai dhūpaṁ kalpayāmi |
raṁ agnyātmikāyai dīpaṁ kalpayāmi |
vaṁ amṛtātmikāyai amṛtaṁ mahānaivedyaṁ kalpayāmi |
saṁ sarvātmikāyai tāmbūlādi samastopacārān kalpayāmi |

சண்டிகாபரமேஶ்வரீ ஜப விதாநம்‌

 

அஸ்ய ஶ்ரீ நவாக்ஷரீ மஹாமந்த்ரஸ்ய ।

மார்கண்டேய ருஷி: । ஜகதீ சந்த: । ஶ்ரீ சண்டிகாபரமேஶ்வரீ தேவதா ।

 

ஹ்ராம்‌ பீஜம்‌ । ஹ்ரீம்‌ ஶக்தி: । ஹ்ரூம்‌ கீலகம்‌ ।

 

ஶ்ரீ சண்டிகாபரமேஶ்வரீ மஹாமந்த்ர ப்ரஸாத ஸித்த்யர்த்தே ஜபே விநியோக: ।

 

கர ந்யாஸ: -

 

ஹ்ராம்‌ அங்குஷ்டாப்யாம்‌ நம: ।

ஹ்ரீம்‌ தர்ஜநீப்யாம்‌ நம: ।

ஹ்ரூம்‌ மத்யமாப்யாம்‌ நம: ।

ஹ்ரைம்‌ அநாமிகாப்யாம்‌ நம: ।

ஹ்ரௌம்‌ கநிஷ்டிகாப்யாம்‌ நம: ।

ஹ்ர: கரதலகரப்ருஷ்டாப்யாம்‌ நம: ।

 

அங்க ந்யாஸ: -

 

ஹ்ராம்‌ ஹ்ருதயாய நம: ।

ஹ்ரீம்‌ ஶிரஸே ஸ்வாஹா ।

ஹ்ரூம்‌ ஶிகாயை வஷட்‌ ।

ஹ்ரைம்‌ கவசாய ஹும்‌ ।

ஹ்ரௌம்‌ நேத்ரத்ரயாய வௌஷட்‌ ।

ஹ்ர: அஸ்த்ராய பட்‌ ।

 

ஓம்‌ பூர்புவஸ்வரோம்‌ இதி திக்பந்த: ।

 

த்யாநம்‌ -

 

மாதர்மே மதுகைடபக்நி மஹிஷ ப்ராணாபஹாரோத்யமே

ஹேலா நிர்மித தூம்ரலோசந வதே ஹே சண்டமுண்டார்திநி ।

நிஶ்ஶேஷீக்ருத ரக்தபீஜதநுஜே நித்யே நிஶும்பாபஹே

ஶுபத்வம்ஸிநி ஸம்ஹராஶுதுரிதம்‌ துர்கே நமஸ்தேம்பிகே ॥

 

பஞ்சபூஜா -

 

லம்‌ ப்ருதிவ்யாத்மிகாயை கந்தம்‌ கல்பயாமி ।

ஹம்‌ ஆகாஶாத்மிகாயை புஷ்பாணி கல்பயாமி ।

யம்‌ வாய்வாத்மிகாயை தூபம்‌ கல்பயாமி ।

ரம்‌ அக்ந்யாத்மிகாயை தீபம்‌ கல்பயாமி ।

வம்‌ அம்ருதாத்மிகாயை அம்ருதம்‌ மஹாநைவேத்யம்‌ கல்பயாமி ।

ஸம்‌ ஸர்வாத்மிகாயை தாம்பூலாதி ஸமஸ்தோபசாராந்‌ கல்பயாமி ।

 

மூலம்‌ -

 

ஐம்‌ ஹ்ரீம்‌ க்லீம்‌ சாமுண்டாயை விச்சே

 

அங்க ந்யாஸ: -

 

ஹ்ராம்‌ ஹ்ருதயாய நம: ।

ஹ்ரீம்‌ ஶிரஸே ஸ்வாஹா ।

ஹ்ரூம்‌ ஶிகாயை வஷட்‌ ।

ஹ்ரைம்‌ கவசாய ஹும்‌ ।

ஹ்ரௌம்‌ நேத்ரத்ரயாய வௌஷட்‌ ।

ஹ்ர: அஸ்த்ராய பட்‌ ।

 

ஓம்‌ பூர்புவஸ்வரோம்‌ இதி திக்விமோக: ।

 

த்யாநம்‌ -

 

மாதர்மே மதுகைடபக்நி மஹிஷ ப்ராணாபஹாரோத்யமே

ஹேலா நிர்மித தூம்ரலோசந வதே ஹே சண்டமுண்டார்திநி ।

நிஶ்ஶேஷீக்ருத ரக்தபீஜதநுஜே நித்யே நிஶும்பாபஹே

ஶுபத்வம்ஸிநி ஸம்ஹராஶுதுரிதம்‌ துர்கே நமஸ்தேம்பிகே ॥

 

பஞ்சபூஜா -

 

லம்‌ ப்ருதிவ்யாத்மிகாயை கந்தம்‌ கல்பயாமி ।

ஹம்‌ ஆகாஶாத்மிகாயை புஷ்பாணி கல்பயாமி ।

யம்‌ வாய்வாத்மிகாயை தூபம்‌ கல்பயாமி ।

ரம்‌ அக்ந்யாத்மிகாயை தீபம்‌ கல்பயாமி ।

வம்‌ அம்ருதாத்மிகாயை அம்ருதம்‌ மஹாநைவேத்யம்‌ கல்பயாமி ।

ஸம்‌ ஸர்வாத்மிகாயை தாம்பூலாதி ஸமஸ்தோபசாராந்‌ கல்பயாமி ।

Author: purna_admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *